Sunday, March 23, 2014

तू मेरा चाँद.... !!!



कई बार चाँद से ... जी बहलाती हूँ अपना...
आँखों आँखों में इशारे ... और बात होती है..
कभी बादलों में छुप के... चिढ़ाना उसका....
कभी चांदनी उसके .... साथ होती है... 

उस चाँद से मेरा .. अज़ब सा नाता है....
रात को चुपके से...खिड़की से घुस आता है..
कितना कहती हूँ ... तू मेरा नहीं सबका है...
बात सुनता नहीं.... गोद में आ लेट जाता है..

मैं जब पूंछती हूँ ... तू क्यूँ ठहरा है यहीं ...
कहता है तेरी हर बात.. चाशनी सी लगती है..
तेरी मरमरी बांहों में.. जो मैं सो जाता हूँ...
ज़िंदगी बड़ी .... ख़ुशमिजाज़ लगती है...

बांहे मेरी हैं ... अब तकिया उसका...
जग ज़ाहिर है... अब प्यार भी उसका ...
वो कभी जो शिकायत .. भी करे हैं मुझसे...
बेअदबी में भी .... मिठास लगती है...

बिकाऊ हो न हो चीज... उनको क्या मालूम ...
वो दिल खोल कर ...बोली लगाये जाते हैं....
चाँद मेरे पहलू से ... उठके न जायेगा कभी...
फ़िर भी हर पल उसको.... बुलाए जाते है..

..........................................................'तरुणा'... !!!


Kai baar chaand se ... jee bahlati hoon apna...
Ankho ankho me ishaare ... aur baat hoti hai..
Kabhi badalon me chhup ke... Chidhana uska...
Kabhi Chaandni uske .... saath hoti hai...

Us chaand se mera ... azab sa naata hai...
Raat ko chupke se... khidki se ghus aata hai..
Kitna kahti hoon ... tu mera nahi sabka hai...
Baat sunta nahi ... god me aa let jata hai... 

Main jo poochhti hun ... tu kyun thahra hai yahin...
Kahta hai teri har baat ... Chaashni si lagti hai.... 
Teri marmari baahon me ... jo main so jata hun...
Zindgi badi ...... khushmijaaz lagti hai.....

Baanhe meri hain .... ab takiya uska....
jag zaahir hai ab ...... pyaar bhi uska... 
Vo kabhi jo shiqaayat ... bhi karey hai mujhse..
Be-adabi me bhi .... mithaas lagti hai...

Bikaau ho na cheez ... unko kya maaloom...
Vo dil khol kar ... boli lagaaye jaate hain ....
Chaand mere pahlu se .. uth ke na jayega kabhi..
Phir bhi har pal .... usko bulaaye jaate hain...

..........................................................................'Taruna'...!!!

2 comments:

Rajesh Jain said...

अप्रतिम .....

taruna misra said...

Bahut Bahut Shukriya... Rajesh ji.. :)